गुजरात में भूकंप के तेज झटके, लोगों में दहशत









नई दिल्ली, गुजरात में राजकोट के पास रविवार देर शाम भूकंप  के झटके महसूस किए गए. रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 5.5 मापी गई. राष्ट्रीय भूकंप केंद्र ने यह जानकारी दी.


भूकंप का केंद्र राजकोट से 122 किलोमीटर उत्तर-उत्तर पश्चिम में बताया गया है। बताया जा रहा है कि झटके कच्छ, सौराष्ट्र और अहमदाबाद में भी महसूस किए गए हैं। अभी तक किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है। कुछ ही देर बाद रात 8 बजकर 35 मिनट पर जम्मू कश्मीर के कटरा में भी 3.0 तीव्रता का भूकंप आया है।


गुजरात के राजकोट में धरती हिलते ही लोग घरों के बाहर निकले। लोगों ने बताया कि झटके काफी तेज थे और कई सेकंड तक वह इसे महसूस करते रहे। हालांकि, अभी तक भूकंप की वजह से कहीं से किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है।


गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने भूकंप के तुरंत बाद राजकोट, कच्छ और पाटन जिले के कलेक्टरों से बात की है और स्थिति का जायजा लिया है। सीएम कार्यालय की ओर से यह जानकारी दी गई है।


गुजरात में भूकंप से लोगों के 2001 के जख्म हरे हो जाते हैं, जब 26 जनवरी के दिन सुबह आए भूकंप ने हजारों लोगों की जान ले ली थी और बड़ी संख्या में लोग बेघर हो गए थे। कई शहर, कस्बे और गांव मलबे के ढेर में बदल गए थे। उस दिन भूकंप का केंद्र कच्छ में था और तीव्रता 6.9 थी।


दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे उत्तर भारत में बीते एक-डेढ़ महीनों के दौरान एक दर्जन से अधिक छोटे भूकंप आए हैं। कोरोना संकट के बीच जब अधिकतर लोग घरों में थे तो बार-बार भूकंप के झटकों ने चिताएं बढ़ाईं लेकिन भूकंप विशेषज्ञों का मानना है कि छोटे भूकंप से ज्यादा खतरा नहीं है बल्कि ये बड़े भूकंप के खतरे को कम कर सकते हैं।














  •