यूपी मे सरकारी अफसरों का वसूली का आडियो हुआ वायरल, एक निलंबित




लखनऊ, उत्तर प्रदेश में अधिकारी का वसूली के मामले में ऑडियो जारी होने पर उसे निलंबित कर दिया गया है।



कुशीनगर जिले के खड्डा विकास खंड में तैनात ग्राम विकास अधिकारी का वसूली के मामले में ऑडियो जारी होने पर उसे निलंबित कर दिया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि हनुमानगंज के ग्राम विकास अधिकारी बलिस्टर प्रसाद गुप्ता तथा खड्डा के खंड बिकास अधिकारी (बीडीओ) रमाकांत के बीच हुई बातचीत का एक ऑडियो गुरुवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। यह अधिकारियों के मोबाइल पर भी पहुंच गया।



मुख्य विकास अधिकारी आनंद कुमार ने मामले की जांच शुरू करा दी। हनुमानगंज के ग्राम विकास अधिकारी बलिस्टर प्रसाद गुप्ता को निलंबित कर दिया है। उन्होंने बताया कि ग्राम विकास अधिकारी व बीडीओ यह स्वीकार कर रहे हैं कि ग्राम प्रधान आवास के लिए लाभार्थियों से धन की वसूली कर रहा है लेकिन उनका अंश (हिस्सा) नहीं दे रहा है। इसमें एक पूर्व समय में यहां तैनात रहे पीडी की भी वसूली की चर्चा है। बीडीओ से ग्राम विकास अधिकारी यहां तक कहता है कि ग्राम प्रधान पर एफआईआर दर्ज करा दीजिए, तभी वह ठीक होगा।



उन्होंने बताया कि ऑडियों के बारे में बीडीओ ने यह स्वीकार किया था कि बातचीत उन्हीं की है लेकिन हिस्सा लेने या वसूली के आरोप बेबुनियाद हैं। सीडीओ के निर्देश पर जिला विकास अधिकारी ने मामले की प्राथमिक जांच की और पाया कि ग्राम विकास अधिकारी बलिस्टर प्रसाद गुप्ता धन की वसूली के लिए प्रधान पर कार्रवाई की रणनीति तैयार कर रहे हैं।



सीडीओ आनंद ने बीडीओ रमाकांत को नोटिस जारी कर उनसे स्पष्टीकरण मांगा है। ऑडियो की बातचीत को लोकसेवक के आचरण की नियमावली के विपरीत मानते हुए पूछा है कि क्यों ने आपके विरुद्ध कार्रवाई की शासन को रिपोर्ट की जाए। मुख्य विकास अधिकारी आनंद कुमार का कहना है कि मामले की जांच हो रही है। ग्राम विकास अधिकारी सस्पेंड हो गए। बीडीओ को शो काज नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा गया है। आवास, शौचालय व सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों से अपील है कि वसूली करने वालों के ऑडियो व वीडियो के साथ शिकायत करें। दोषियों पर कार्रवाई होगी। किसी को एक भी रुपये अलग से न दें। भ्रष्टाचारियों का विरोध नहीं करना भी अपराध की श्रेणी में ही आता है।