नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ छात्रों की प्रताड़ना पर बसपा की कड़ी प्रतिक्रिया




नयी दिल्ली, नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ छात्रों की गिरफ्तारी और प्रताड़ना पर बहुजन समाज पार्टी की कड़ी प्रतिक्रिया आयी है।



बहुजन समाज पार्टी के नेता तथा लोकसभा सांसद कुंवर दानिश अली ने कहा है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन करने वाले जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बेकसूर छात्रों की गिरफ्तारी और उन्हें प्रताड़ित कर दिल्ली पुलिस अपनी विश्वसनीयता खो रही है।
श्री अली ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन करने वाले बेगुनाह छात्रों को ही दिल्ली में हिंसा भड़काने तथा नफरत का माहौल बनाने का वास्तविक दोषी मानकर उन्हें गिरफ्तार और प्रताड़ित करने से दिल्ली पुलिस तेजी से अपनी विश्वसनीयता खो रही है।
गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ जामिया में विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे कई छात्रों को लॉक डाउन के दौरान गिरफ्तार किया गया है और इन सभी पर उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा की साजिश रचने का आरोप लगाया गया है। इन छात्रों पर गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए) के तहत कार्रवाई की गई है।
दिल्ली हिंसा मामले में जामिया के शोधार्थी छात्र मीरान हैदर, सफूरा जरगर, आसिफ इकबाल तनहा तथा एल्युमनी असोसिएशन ऑफ जामिया मिल्लिया इस्लामिया (आजमी) के अध्यक्ष शिफाउर्रह्मान खान को गिरफ्तार किया गया है। इन छात्रों पर देशद्रोह, हत्या, हत्या के प्रयास, धर्म के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच नफरत को बढ़ावा देने और दंगा करने के अपराध के लिए भी मामला दर्ज किया गया है।
उल्लेखनीय है कि नागरिकता संशोधन कानून के समर्थकों और इसका विरोध करने वालों के बीच उत्तर पूर्वी दिल्ली में 23 से 26 फरवरी के बीच हिंसा हुईं थीं, जिसमें 50 से अधिक लोग मारे गए थे और सैकड़ों लोग घायल हो गए थे।