अब ऑनलाइन शिक्षा बढ़ाने के लिये ‘पीएम ई-विद्या’ योजना, हर क्लास के लिये एक चैनल




नयी दिल्ली , सरकार ने कोरोना माहामरी के कारण लॉकडाउन से स्कूल एवं कॉलेजों के बन्द होने से पढ़ाई नही होने की वजह से अब ऑनलाइन तथा डिजिटल शिक्षा को बढ़ाने के लिये ‘पीएम ई-विद्या’ की योजना बनाई है और इसके लिए देश के सौ विश्वविद्यालयों को शामिल किया है तथा हर क्लास के लिये एक चैनल खोलने का फैसला किया है।



वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ की योजना के तहत एक राष्ट्र एक डिजिटल प्लेटफार्म कार्यक्रम का खुलासा करते हुए यह जानकारी दी।
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने इस घोषणा का स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति आभार व्यक्त किया है।



श्रीमती सीतारमण ने बताया कि स्कूलों और कॉलेजों में ऑनलाइन शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए कई नए कदम उठाए गए हैं जिनमें डीटीएच चैनलों के अलावा रेडियो, सामुदायिक रेडियो और पॉडकास्ट का इस्तेमाल किया जाएगा। स्वयं प्रभा प्लेटफॉर्म, दीक्षा प्लेटफार्म और ई-पाठशाला का इस्तेमाल कर छात्रों को पढ़ाने का काम किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 12 और चैनल शुरू किए जाएंगे और पहली कक्षा से लेकर बारहवीं कक्षा के लिए एक-एक चैनल होगा। इन चैनलों से सुबह आठ बजे से दो बजे या शाम सात बजे से रात एक बजे तक प्रसारण किया जाएगा। इसके अलावा स्काईप के सहारे छात्रो के साथ लाइव संवाद भी होंगे। इसके साथ ही टाटा स्काई, एयरटेल, वीडियोकॉन, जिओ एप्प के जरिए इनका प्रसारण किया जाएगा।



उन्होंने बताया कि इससे देश के 25 करोड़ स्कूली बच्चों को ऑनलाइन तथा डिजिटल शिक्षा मिलेगी। नेत्रहीन और मूक बधिर बच्चों के लिए भी ऑडियो तथा संकेत भाषा में शिक्षा दी जाएगी। उन्होंने बताया कि देश के 100 शीर्ष विश्वविद्यालय में ऑनलाइन शिक्षा शुरू की जाएगी। वित्त मंत्री ने बताया कि दीक्षा प्लेटफार्म पर 24 मॉर्च से अब तक 6 करोड़ हिट्स हो चुके है तथा 200 नई ई-बुक भी डाले गए हैं। स्वयं प्रभा चैनल से हर दिन चार घंटे का प्रसारण होगा। स्वयं प्लेटफार्म पर 16 मॉर्च से अब तक 90 हज़ार छात्रों ने दाखिला लिया है।