यूपी विधान सभा ने सामूहिक कार्य रोके, कर्मचारियों व अधिकारियों के लिये दिये ये निर्देश

लखनऊ , कोविड-19 के कारण उत्पन्न स्थिति को देखते हुये, यूपी विधान सभा ने सामूहिक कार्य रोके जाने का निर्णय लिया है। वहीं कर्मचारियों व अधिकारियों के लिये खास निर्देश जारी कियें हैं।


उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कहा है कि कर्मचारी केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 की रोकथाम के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुये केवल शासकीय कार्य से ही कार्यालय आयेंगे।


विधानसभा अध्यक्ष ने बयान जारी कर कहा कि कोरोना(कोविड-19) महामारी के संक्रमण से उत्पन्न स्थिति के कारण रोकथाम के लिए प्रधानमंत्री के आदेश पर सम्पूर्ण लाॅकडाउन तीन मई तक बढ़ाये जाने पर मुख्यमंत्री के दिशा-निर्देश के अनुरूप उत्तर प्रदेश विधान सभा ने सामूहिक कार्य तीन मई तक रोके जाने का निर्णय लिया है।


उन्होंने कहा कि विशेष सचिव एवं संयुक्त सचिव कार्यालय में उपस्थित रहेंगे। समस्त अनुभागों/कार्यालयों के प्रभारी/अधिकारी इस प्रकार की व्यवस्था करेंगे कि प्रत्येक दिन कार्यालयों में समूह क, ख, ग, एवं घ के 25 प्रतिशत कर्मी कार्यालय में उपस्थित रहेंगे।


श्री दीक्षित ने कहा कि सभी कर्मचारी यह सुनिश्चित करें कि आवश्यक कार्यों का निस्तारण सुचारू रूप से होता रहे। इसके लिए उनके स्तर से अधिकारियों/कर्मचारियों का साप्ताहिक रोस्टर बना लिया जाये। सभी कर्मचारियों को यह भी निर्देशित किया गया है कि वह केवल शासकीय कार्य से ही कार्यालय आयेंगे।


विधासभा अध्यक्ष ने यह भी अपेक्षा की है कि विधानसभा के सभी कर्मचारी गरिमा के विरुद्ध कोई आयोजन एवं सामूहिक कार्य नहीं करेंगे। स्वयं को सामूहिक मेल-मिलाप से पृथक रखेंगे । शासन के निर्देशों के अनुपालन में पूर्ण सहयोग करेंगे।