लॉकडाउन में पैदल पलायन करने वाले ज्यादातर लोग एससी, एसटी व ओबीसी-मायावती

लखनऊ,  बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने सरकार पर हमला करते हुये कहा कि लाकडाउन मे पैदल पलायन करने वाले ज्यादातर


लोग एससी, एसटी व ओबीसी वर्ग से हैं।


मायावती ने संविधान निर्माता बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।


मायावती ने कहा कि देश कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से जूझ रहा है ऐसे में दलितों, आदिवासियों, पिछड़ों एवं अन्य उपेक्षित तथा गरीब लोगों की जो हालत है उससे यह स्पष्ट होता है कि इनके प्रति केन्द्र व राज्य सरकारों की ‘‘हीन व जातिवादी मानसिकता’’ पूरे तौर से बदली नहीं है।


मायावती ने कहा,‘‘मैं यह बात बड़े दुःख के साथ आज इसलिए कह रही हूँ कि क्योंकि जैसे ही अपने देश में कोरोना वायरस की यह महामारी फैलनी शुरू हुई और केन्द्र सरकार ने इसको फैलने से रोकने के लिए ‘‘लॉकडाउन’’ की घोषणा की तो दिल्ली सहित अन्य राज्यों में रोटी-रोजी कमाने के लिए गये लोगों ने, अपने मालिकों की व राज्य सरकारों की उपेक्षा को देखते हुये वहाँ से पलायन करना शुरू कर दिया।’’


उन्होंने कहा,‘‘ पलायन करने वाले लगभग 90 प्रतिशत लोग दलित, आदिवासी व अन्य पिछड़े वर्ग के हैं। जब ये लोग अपने-अपने मूल राज्यों में वापस जा रहे थे तो उन राज्यों की सरकारों ने, इनके प्रति ‘‘अपनी हीन व जातिवादी मानसिकता’’ के चलते ऐसे खराब हालात में भी इनको अपने मूल राज्यों में जाने से नहीं रोका।’’


उन्होंने कहा,‘‘ मैं बाबा साहेब डा. आम्बेडकर की जयन्ती के खास मौके पर अपने ऐसे सभी दुःखी व पीड़ित लोगों से यह कहना चाहती हूं कि इन लोगों को स्वाभिमान के साथ खुद अपने पैरों पर खड़े होने के बाबा साहेब के सिद्धांतों का पालन करना चाहिए।’’